top of page

 

Patrakarita - Vishavasniyata ki Chunauti

A Collection of articles by senior journalists

Edited by Alkesh Patel

Price - Rs. 225 - after discount Rs. 200

Patrakarita - Vishavasniyata ki Chunauti

₹225.00 Regular Price
₹200.00Sale Price
  • अति सर्वत्र वर्जयेत

    इसमें कोई संदेह नहीं है कि पत्रकारिता लोकतंत्र का एक बहुत महत्वपूर्ण पहलू है, लेकिन इसे चौथा स्तंभ कहना न तो उचित है और न ही न्यायपूर्ण। वास्तव में इस क्षेत्र ने खुदने अपने आप को चौथे स्तंभ प्रमाणपत्र दिया था!

            किसी भी प्रणाली या इमारत का मूल सिद्धांत यह है कि संतुलन होना चाहिए। कोई भी एकतरफा झुकाव संतुलन को बिगाड़ता है और सिस्टम की विश्वसनीयता को चुनौती देता है।

    यही बात पत्रकारिता के साथ भी हुई है। पत्रकारिता का एकमात्र और मूल सिद्धांत था "जो कुछ भी होता है उसके बारे में समाज को सूचित करना"। पर, पत्रकारिता कभी भी इस परिभाषा से बंधी नहीं रही है। यहां तक ​​कि जब पूरे विश्व में राजशाही थी, तब भी पत्रकारिता दो भागों में विभाजित थी - एक हिस्सा राजतंत्र के पक्ष में था और दूसरा हिस्सा राजशाही विरोधी "समाचार" को महत्त्व दे रहा था। लोकतंत्र में, स्वाभाविक रूप से, पत्रकारिता के ऐसे पक्ष और विपक्ष रहते हैं। एकमात्र अपवाद कम्युनिस्ट शासनो में रहा है जिसमें पत्रकारिता को हमेशा "एकतरफा" रहने के लिए मजबूर किया गया है, आज भी उसमें परिवर्तन नहीं आया। लेकिन आश्चर्यजनक रूप से, उसी ही कम्युनिस्ट विचारधारा से प्रभावित "पत्रकार" लोकतंत्र में अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का बैनर उठा कर रास्ते पर आ जाते हैं! उनकी ऐसी गतिविधि के कारण, "गोदी-मीडिया" और "गुलाम-मीडिया" जैसे शब्द भारतीय पत्रकारिता में प्रचलित हो गए। दुनिया को सलाह देने वाली पत्रकारिता खुद अपनी मर्यादा की सीमा से बहुत आगे निकल चुकी है, परिणाम स्वरूप पत्रकारिता की विश्वसनीयता को चुनौती मिली है।

            इस पुस्तक में किसी एक पक्षीय विचारधारा का पक्ष लिए बिना- उदाहरणों, तर्कों और प्रमाणों के साथ चर्चा की गई है कि कब, कैसे और क्यों इस विश्वसनीयता दांव पर लग गई। इस पुस्तक के माध्यम से पत्रकारिता की दिशा बदल जाएगी ऐसा कोई दावा नहीं है और नहीं हम में से कोई ऐसी गलतफहमी में है। लेकिन इतना विश्वास जरूर है कि यह पुस्तक सही दिशा दिखाने के लिए माइलस्टॉन जरूर बनेगी।

    अलकेश पटेल

Product Page: Stores_Product_Widget
bottom of page